वास्तु शास्त्र

वास्तु शास्त्र प्राचीन शिक्षाओं में से एक है। यह वास्तुकला विज्ञान के साथ संबंधित है और बताता है कि कैसे हम अलग अलग वस्तुयों का प्रयोग कर अपने जीवन में सकारात्मक ऊर्जा पैदा कर सकते है। वास्तु तकनीक के प्रयोग कई घरों के लिए शांति और समृद्धि के लिए उपयोग किया जाता है। मंदिरों के निर्माण के लिए भी वास्तु का उपयोग किया जाता है।

वास्तु का निर्माण:-

वास्तु शास्त्र भारतीय सभ्यता में से सबसे पुराना और महत्त्वपूर्ण शिक्षा है और विज्ञान की विभिन्न शाखाओं के विकास की एक समृद्ध विरासत है। वास्तु शास्त्र पारंपरिक ज्ञान एवं प्रकृति से सीखा हुआ ज्ञान पर आधारित होता है। तथा पुराने भारतीय ग्याता जानते है कि ब्रम्हांड का निर्माण 5 तत्वों से मिलकर हुआ है।
उन्हें विज्ञानं के यह सभी नियमो (गुरुत्वाकर्षण क्षेत्र, चुंबकीय क्षेत्र, पृथ्वी की स्थिति, हवाओं का वेग, पराबैंगनी किरणों, तीव्रता और इस ज्ञान की वर्षा आदि ) का भी ज्ञान है। तथा उन्होंने यह सिद्ध कर दिया है कि एक भवन के निर्माण में वैज्ञानिक और आध्यात्मिक दोनों शक्तियां आवश्यक है।

वैज्ञानिक तत्व:-

भारतीय वास्तु शास्त्र के आधार पर पांच प्राकृतिक तत्वों, पृथ्वी, जल, अग्नि, वायु और अंतरिक्ष शामिल हैं। इन तत्वों में से प्रत्येक तत्व हमारे जीवन को प्रभावित करता। हमारे महान वैज्ञानिकों जानते थे कि यह मनुष्य के जीवन पर कैसे प्रभाव डालते है। वो हैं:

पृथ्वी: पृथ्वी के चुंबकीय क्षेत्र
पानी: पृथ्वी के गुरुत्वाकर्षण के आकर्षण
आग: सौर विकिरण
वायु: पवन ऊर्जा
अंतरिक्ष: ब्रह्मांडीय विकिरण


वास्तु शास्त्र में दिशा-निर्देश:-

तत्वों के अलावा, वास्तु शास्त्र में दिशाएं भी सबसे महत्वपूर्ण कारक हैं। जब हम किसी घर का निर्माण करते है तो सब कुछ सही दिशा में हो रहा हो ,यह सुनिश्चित करना बहुत जरुरी होता है इसलिए हमें थोड़ा बहुत इसका ज्ञान होना चाहिए। यहां वास्तु शास्त्र में आठ दिशाए हैं और उनकी अपनी विशेषताएं है:

A. पूर्व:-

पूर्व सूर्योदय के लिए तथा नई शुरुवात का प्रतीक है। अपने बुरे समय का अंत करने तथा कुछ नया करने के लिए बहुत फायदेमंद है। यह समृद्धि की दिशा है। आइए जानते है की घर के पूर्वी भाग या पूर्वी दिशा में क्या होना चाहिए -

1. घर का मुख्य प्रवेश द्वार का, बैठक कक्ष का प्रवेश, अध्ययन कक्ष का प्रवेश और पूजा घर का प्रवेश पूर्व दिशा के सामने की ओर होना चाहिए।

2. यदि आपके पैसे रखने या स्थान,तिजोरी या लाकर्स पूर्व दिशा की ओर है तो यह आपके घर की समृद्धि को बढ़ावा देता है।

3. रसोई घर या शौचालय पूर्व में नहीं होना चाहिए।


B. पश्चिम:-

पश्चिम, शायद सबसे दयनीय दिशा है। सभी वास्तु दिशाओं में से यह एक है जो लोग घर के प्रवेश द्वार पश्चिमी दिशा की ओर खुलते है वह एक सुखी जीवन या एक समृद्ध जीवन का नेतृत्व नहीं है। पश्चिम दिशा जहां सूरज डूबता है, जिसका मतलब है कि यह दिशा किसी भी शुभ कार्य की शुरुआत के लिए बहुत अच्छी नहीं है। आइए जानते है की किन चीज़ों की दिशा पश्चिम की ओर होनी चाहिए।

1. सीढ़ी या किसी टैंक का स्थान पश्चिम दिशा की और होना सबसे उत्तम है।

2. यदि किसी घर में ऑफिस बनाना है तो उसके लिए यह दिशा बेहतर है।

3. पश्चिमी दिशा में गैरेज तथा कचरा डिब्बे का स्थान रख सकते है।


C. उत्तर:-

उत्तर दिशा ,जो व्यवसायी लोग हैं एवं वास्तु को लागू करने में रुचि रखते हैं उनके लिए सबसे अच्छी दिशा है। जानते है उत्तर दिशा के सकारात्मक प्रभाव:

1. अधिकतम सफलता के लिए कार्यालय, घर के या इमारत के उत्तरी भाग में होना चाहिए।

2. शौचालय या कचरे का डब्बा उत्तर दिशा की ओर नहीं होना चाहिए। यह आपके जीवन पर नकारात्मक प्रभाव डाल सकता है।

3. खाना बनाने की जगह उत्तर दिशा की ओर नहीं होना चाहिए।


D. दक्षिण:-

दक्षिण काफी विरोधाभासी दिशा है। अगर किसी घर का निर्माण दक्षिण दिशा की ओर करते है तो यह कुछ वर्षों तक तो अच्छा फल देता है परंतु उसके बाद धन का आभाव शुरू हो जाता है एवं कई समस्या उत्पन्न होती है।

1. टैंक या ओवरहेड टैंक दक्षिण भाग में रखे।

2. घर में सीढ़ी दक्षिणी भाग में रखे।

3. कोई गुप्त स्थान या तहखाने की दिशा दक्षिण दिशा में ना बनाये।

4.इस दिशा में ना हीं खाना ग्रहण करना चाहिए और ना ही बनाना चाहिए।


E. उत्तर-पूर्व:-

उत्तर-पूर्व में भगवान की दिशा है। यह दिशा पुरुषों और महिलाओं के पहलुओं में सकारात्मक प्रभाव डालता है।

1. उत्तर-पूर्वी दिशा का छेत्र अगर खुला रहे तो यह आपकी आर्थिक स्थिति पर अच्छा प्रभाव डालेगा।

2. ढलान का निर्माण उत्तर-पूर्वी क्षेत्र में रहे तो बेहतर होगा।

3. अगर प्रवेश द्वार उत्तर-पूर्व में है तथा उसके बहार सड़क का होना वास्तु दोष के निवारण के लिए अच्छी कोशिश होगी।


F. उत्तर-पश्चिम:-

उत्तर-पश्चिम दिशा है पारस्परिक संबंधों को सँभालने के लिए। परिवार के अन्य सदस्यों के साथ आपका रिश्ता कैसा है यह दिशा के आधार पर भी निर्भर करता है। यहाँ कुछ चीजें है जिससे आप निश्चित रूप से ध्यान में रख सकते हैं:

1. घर के उत्तर पश्चिम भाग में कोई भूमिगत पानी के टैंक होना चाहिए।

2. रसोई, डाइनिंग रूम और मास्टर बेडरूम इस दिशा में नहीं होना चाहिए।

3. तहखाने की दिशा घर के उत्तर-पश्चिमी हिस्से में नहीं होना चाहिए।


G. दक्षिण-पूर्व:-

दक्षिण-पूर्व दिशा से जुडी कुछ महत्वपूर्ण चीजें जिसके बारे में आपको जानने की जरुरत है, आइये समझते है:

1. रसोई घर के लिए यह बहुत फायदेमंद दिशा है।

2. किसी भी बिजली के उपकरण कमरे की दक्षिण-पूर्वी हिस्से में रखे जाये तो बेहतर है।

3. यह दिशा शौचालय या टैंक के लिए उपयुक्त नहीं है।


H. दक्षिण-पश्चिम:-

यह उत्तर-पूर्व के विपरीत दानवो की दिशा का प्रतीक है। यह दिशा व्यवसाय के क्षेत्र तथा उससे जुड़े हुए फैसले करने के लिए उत्तम है। यहाँ कुछ महत्वपूर्ण बातें आप को ध्यान देने योग्य है:

1. अपने घर के दक्षिण-पश्चिम भाग को किराए पर दिया जाना उचित होगा।

2. किसी भी ओवरहेड टैंक या बेसमेंट का दक्षिण पश्चिम में होना कलह को बढ़ावा देता है।

türbanlı porno,kürt porno izle,manisa erotik shop,brazzers sex videoları,ereksiyon hapı,